आजकल ज्यादातर लोग किसी न किसी बीमारी से पीड़ित हैं। इसका सबसे बड़ा कारण आज कल की जीवनचर्या है। स्वास्थय के प्रति ध्यान देना ही इन बीमारियों का कारण है। कभी कभी कुछ बीमारियां ऐसी होती हैं, जो शरीर में चुपचाप प्रवेश करती हैं। और आपके बॉडी को नुकसान पहुँचाना शुरू करती हैं। इन बीमारियों के शुरूआती लक्षण तो नजर में नहीं आते परंतु ये स्वास्थय संबंधी बहुत ही खतरनाक बीमारी होती हैं। लेकिन ये सेहत से जुड़ी साइलेंट किलर का काम करती हैं। तो आइये जानते हैं, साइलेंट किलर बीमारियों के बारे में जो जिनको नजरअंदाज करना आपकी सेहत के लिए बहुत खतरनाक हो सकता है। इनके लक्षण को पहचानें और इसका इलाज जरूर कराएं।

शुगर या डायबिटीज- शुगर सेहत के लिए बहुत ही खतरनाक है। शुरूआती दिनों में इस बीमारी का कोई स्पष्ट संकेत शरीर में नहीं देखने को नहीं मिलता। लेकिन डायबिटीज आजकल आम बीमारी हो गई है। यह अपने पैर बहुत ही तेजी से पसार रही है। इसलिए इस बीमारी के लक्षणों की अनदेखी मत कीजिए और चुपके चुपके आने वाले इन लक्षणों को समझिए। जिससे कि आप इस खतरनाक साइलेंट बीमारी से बच सकते हैं।

  • त्वचा संबंधी समस्याएं- डायबीटिज के शुरूआती लक्षणों में त्वचा संबंधी समस्याएं होती हैं। जैसे खुजलाहट, शरीर में काले निशान पड़ना अगर शरीर में इस तरह की समस्याएं हो रही हैं, तो यह डायबिटीज के लक्षण हैं, जल्दी डॉक्टर  से संपर्क करें।
  • अचानक से वजन गिरना- डायबिटीज से शरीर के मांसपेशियों का प्रोटीन टूटता है। शरीर का अचानक बढ़ना या गिरना दोनों ही सेहत के लिए खतरनाक है। ध्यान रखिए ये डायबिटीज के शुरूआती लक्षण हैं।
  • अधिक भूख लगना- ज्यादा भूख लगना डायबिटीज का लक्षण है। अधिक भूख लगने की कई वजह हो सकती है लेकिन उनमें से डायबिटीज भी है। उसपर ध्यान दीजिए।

  • जल्दी घाव नहीं भरना- जल्दी घाव नहीं भरना डायबिटीज का लक्षण है। क्योंकि डायबिटीज से शरीर की प्रतिरोधकता क्षमता कम हो जाती है।
  • थकावट- चूंकि शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है इसलिए थकावट होती है। खून में ग्लूकोज की कमी या अधिकता दोनों से ही थकावट होती है।

उच्च रक्त चाप (हाई ब्लड प्रेशर) – यह भी सेहत के लिए एक साइलेंट किलर का काम करती है। कुछ अध्ययन और विशेषज्ञ बताते हैं कि हाई ब्लड प्रेशर के मरीज सही वक्त पर दवा नहीं लेने के कारण इस बीमारी के शिकार हो जाते हैं। तो आज हम आपको बताएंगे इस बीमारी के लक्षणों के बारे में जिसकी पहचान अगर सही वक्त पर कर ली जाए तो उचित दवा के माध्यम से इससे बचा जा सकता है। तो चलिए जानते हैं इसके लक्षण।

  • तनाव महसूस होना- अगर आप खुद को अधिक तनाव में महसूस करते हैं तो यह उच्च रक्तचाप का कारण हो सकता है।
  • थकावट होना- उच्च रक्तचाप के दौरान जरा सा चलने या किसी भी काम को करने से तुरंत थकावट हो जाता है। अगर ऐसा कुछ हो तो समझिए आप उच्च रक्तचाप से ग्रस्त हैं।
  • हृदय की धड़कन बढ़ना- अगर आपके हृदय की गति सामान्य से तेज हो गई है या आपको अपने हृदय क्षेत्र में किसी तरह का दर्द महसूस हो रहा हो तो चिकित्सक से संपर्क करें।

किडनी रोग- यह शरीर का बहुत ही महत्तवपूर्ण अंग है। इसके खराब हो जाने से शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। यह भी एक ऐसी बीमारी है जिसके शुरूआती दौर में मरीज को कुछ पता नहीं चलता और बाद में इसे ठीक करना मुश्किल हो जाता है। इससे बचने के लिए डॉक्टर से इलाज बहुत जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here