कहा जाता है कि हर व्यक्ति को जीवन में कुछ ख़ास चीज़ें सिखनी बहुत ज़रूरी होती हैं। जैसे की अपने छोटे-मोटे काम करना हर व्यक्ति को आना चाहिए। हर छोटी-छोटी चीज़ के लिए किसी दूसरे के ऊपर निर्भर रहना अच्छी बात नहीं होती है। इसी वजह से कुछ चीज़ों के बारे में बच्चों को बचपन से ही बताया जाता है। लेकिन हाल ही में एक ऐसा चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर आप भी हैरानी में पड़ जाएँगे। आप सोचेंगे कि आख़िर ये क्या हो रहा है।

गुज़रना पड़ता है कठिन परीक्षा से:

 

आप तो जानते ही हैं कि भारत में आईआईटी का क्या स्थान हैं। तकनीकी शिक्षा के मामले में आईआईटी भारत में नम्बर वन संस्थान है। इंजीनियरिंग करने वाले हर छात्र-छात्रा का सपना होता है कि वह आईआईटी से ही शिक्षा ग्रहण करे। लेकिन सभी का यह सपना पूरा नहीं हो पाता है। आईआईटी में घुसने के लिए हर छात्र-छात्रा को एक कठिन परीक्षा से होकर गुज़रना पड़ता है, जिसे सभी लोग नहीं निकाल पाते हैं। ख़ैर आज हम आपको आईआईटी में कैसे प्रवेश लेते हैं, इसके बारे में नहीं बताने जा रहे हैं। आज हम आपको आईआईटी के कोर्स के बारे में बताने जा रहे हैं।

बहू बनने से पूर्व लेगी प्रशिक्षण:

आपने कई तरह के कोर्स के बारे में सुना होगा या पढ़ा होगा, लेकिन क्या आपने कभी बहू बनने से पहले के किसी कोर्स के बारे एम सुना है, शायद नहीं सुना होगा। लेकिन यह सच है। इसके लिए बीएचयू-आईआईटी ने सबसे पहले इसकी पहल शुरू की है। अब बहू बनने से पूर्व कोई भी छात्रा इसके लिए प्रशिक्षण लेकर ससुराल के लिए ख़ुद को तैयार कर सकेगी। इस विशेष कोर्स के लिए कई संगठनों ने पहल की है। हर माँ-बाप की इच्छा होती है कि उनके बच्चे शादी से पहले अच्छी पढ़ाई करके एक सफल कैरियर बनाएँ। बाद में वह ससुराल में पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी सफल ज़िंदगी व्यतीत करें।

कई बार अपने मन की छोटी-छोटी बात दूसरों से ना कह पानें की कमी की वजह से लड़कियाँ अंदर ही अंदर कुंठित हो जाती है। इसका असर उनके जीवन पर और परिवार की ख़ुशियों पर पड़ता है। इस समस्या से उबारने के लिए और बेटियों को हुनरमंद बनाने के लिए बीएचयू आईआईटी का मालवीय नव प्रवर्तन केंद्र आगे आया है। यहाँ के स्टार्टअप ‘यंग स्किल्ड इंडिया’ के सीईओ नीरज श्रीवास्तव का कहना है कि समाज में बढ़ती हुई इस तरह की समस्याओं को देखते हुए निजी संस्थान से मिलकर डाटर्स प्राइड- बेटी मेरा अभिमान कोर्स तैयार किया गया है।

जल्द ही शुरू होगी छात्राओं के चयन की प्रक्रिया:

तीन महीने के इस कोर्स में बेटियों को सेल्फ़ कॉन्फ़िडेन्स, इंटरपर्सनल स्किल्स, प्रॉब्लम सॉल्विंगस्किल्स, स्ट्रेस हैंडलिंग और कम्प्यूटर स्किल्स के साथ फ़ैशन स्किल्स, मैरिज स्किल्स और सामाजिक गुण भी सिखाए जाएँगे। वह बेटियाँ जो संकोचवश अपनी बात किसी और के सामने नहीं कह पाती हैं, उन्मे आत्मविश्वास जगाने में मदद मिलेगी। इस कोर्स में प्रोफ़ेशनल स्किल्स ट्रेनर, फ़ैशन डिज़ाइनर और काउंसलर की अहम भूमिका रहेगी। इसके लिए जल्दी ही विभाग में छात्राओं के चयन को लेकर तैयारियाँ शुरू होने वाली हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here