दुनियाभर में पिछले कुछ सालों से शुगर डैडी टर्म काफी चर्चा में है। कई देशों में अमीर लोगों को शुगर डैडी बनाने का चलन काफी बढ़ गया है। इस वक्त अफ्रीकी देश केन्या इसकी चपेट में है। आर्थिक स्थिति मजबूत करने और ऐशो आराम के लिए यंग लड़कियां पिता की उम्र के शख्स की तलाश कर लेती है, जिन्हें शुगर डैडी कहते हैं। इनके साथ वक्त बिताने और इनकी जरूरतें पूरी करने के बदले लड़कियों के लिए पैसे के इंतजाम हो जाते हैं। केन्या में 19 साल में शुगर डैडी बनाने वाली शिरो ने अपनी कहानी सुनाई।

यूनिवर्सिटी स्टूडेंट शिरो की कहानी

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, शिरो 18-19 साल की उम्र में एक शादीशुदा शख्स से मिली, जो उससे करीब 40 साल बड़ा था। अपनी आर्थिक दिक्कतें पूरी करने के लिए शिरो ने उस शख्स को शुगर डैडी बनाया।

शिरो ने बताया कि पहली मुलाकात में उसके शुगर डैडी ने उसे कुछ गिफ्ट्स दिए और ये सिलसिला चलता रहा। करीब दो साल के रिश्ते के बाद उसने शिरो को एक अच्छा अपार्टमेंट दिला दिया।

चार साल के अंदर शिरो के लिए उसने नियारी काउंटी में एक प्लॉट ले लिया। इन सबके बदले बस वो जब चाहता तब शिरो के साथ संबंध बनाता है और उसके साथ वक्त बिताता है।

केन्या में ये अकेली शिरो की कहानी नहीं है। शिरो जैसी तमाम लड़कियां हैं, जिनके बीच शुगर डैडी बनाने का चलन बढ़ता जा रहा है। ये पब्लिक प्लेस से लेकर सोशल प्लेटफॉर्म तक हर जगह दिख जाएगा।

ऐसे बदल रही सोसायटी

केन्या की ही रहने वाली 20 की जेन ने अपने लिए दो-दो शुगर डैडी तलाशे हुए हैं। ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रही जेन के मुताबिक, उनके टॉम और जेफ से अलग-अलग संबंध हैं।

जेन का कहना है कि वो मदद करते हैं लेकिन हमेशा इसकी कीमत उन्हें सेक्स के जरिए नहीं चुकानी पड़ती। कई बार उन्हें अपने साथ बात करने के लिए और साथ रहने के लिए भी किसी की जरूरत होती है।

जेन के मुताबिक, आर्थिक सुरक्षा के लिए ही उसने शुगर डैडी बनाने का फैसला किया ताकि वो अपनी छोटी बहनों को आर्थिक तौर पर सपोर्ट कर सके।


नैरोबी में काइबेरा की झुग्गी-बस्तियों में रहने वाली ब्रिजेट कभी दूसरों के घरों में काम किया करती थीं लेकिन अब वो सोशल मीडिया पर अपनी लग्जरी लाइफ की फोटोज शेयर करती हैं।

ऐसे ही 25 साल की सिंगर मदर ग्रेस सिंगर बनने का सपना देखती हैं और नाइट क्लब में गाना गाती है। उसे अपने लिए ऐसे शुगर डैडी की तलाश है, जो उसकी करियर में भी मदद कर सके।

 

खर्च निकालने के लिए स्टूडेंट्स में बढ़ा चलन

यूनिवर्सिटी ऑफ नैरोबी से पढ़ने वाली सिलास बताती हैं  कि शुक्रवार की रात यूनिवर्सिटी हॉस्टल के बाहर देखेंगे तो पता चलेगा कि मंत्रियों, नेताओं और अफसरों के ड्राइवर कार लेकर यंग लड़कियों को रिसीव करने आते हैं।

बीबीसी अफ्रीका की तरह से बोसारा सेंटर फॉर बिहेवयरियल इकोनॉमिक्स ने एक स्टडी की, जिसमें 18 से 24 साल की 252 लड़कियां शामिल हुईं। इनमें से 20 फीसदी स्टूडेंट्स ने अपना शुगर डैडी बना रखा था। इन लड़कियों ने ये भी माना है कि उनकी साथियों में करीब 24 फीसदी लड़कियों के शुगर डैडी हैं।

शुगर डैडी का चलन खतरनाक

इस चलन को लेकर बहुत सवाल खड़े हो रहे हैं। लोग इसे वेश्यावृत्ति से जोड़कर देख रहे हैं। लोगों का कहना है कि इससे महिलाओं का सशक्तिकरण नहीं होने वाला, बल्कि ये एक तरह से उस चलन को बढ़ावा देता है, जिसमें महिलाओं के शरीर का इस्तेमाल हो रहा है।

महिलावादी चिंतक ओयंगा पाला का ये भी मानना है कि अफ्रीका में महिलाओं की आजादी का मुद्दा लगातार जोर पकड़ रहा है। ऐसे में जो लोग सेक्शुअली एक्टिव हैं, उनको तो इस चलन के चलते ऐसे काम करने का लाइसेंस मिल जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here